जाने, कैसे चल रही विधान सभा मतदान -2022 की तैयारियाँ

0
27

अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (विकास) ने मतदान रजिस्ट्रेशन अधिकारियों के साथ बैठक की

जालंधर (रिफ्लैक्शन ब्यूरो ): विधान सभा मतदान -2022 की तैयारियों के चलते मुख्य चुनाव अधिकारी, पंजाब, चण्डीगढ़ एस.करुना राजू की तरफ से दिए आदेशों की पालना करते हुए मतदान /वोटर सूची के अलग -अलग विषय सम्बन्धित चल रहे महत्वपूर्ण और समयबद्ध कामों की प्रगति की समीक्षा करने के लिए अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (विकास) जसप्रीत सिंह की तरफ से जिले के सभी मतदान रजिस्ट्रेशन अधिकारियों के साथ बैठक की बैठक की अध्यक्षता करते हुए अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर ने सभी मतदान रजिस्ट्रेशन अधिकारियों को बताया कि भारतीय चुनाव आयोग की तरफ से वोटर सूची को सही करने पर ज़ोर दिया जा रहा है और वोटर सूची के हैल्थ पैरामीटरज़ में डी.एस.ईज़. (डैमोग्राफिक ऐंटरीज़, गल्तियों, (लोजीकल एरर) और रिपीट ई.पी.आई.सी. को हटाना, ई.आर.ओ. नैट में पैडिंग फार्मों (6,7,8,ए) का निपटारा, सर्विस वोटरों के निपटारे के फार्म, मृतक वोटरों को हटाना और अन्य शामिल है उन्होनें इस अवसर पर सभी मतदाता रजिस्ट्रेशन अधिकारियों को वोटर सूची के दूसरे जरूरी कामों पर भी ध्यान देने के लिए भी कहा और पैंडिंग कामों को तुरंत पूरा करने की आदेश दिए, जिस में महीनावार वोटर कार्डों की तैयारी और सम्बन्धित वोटरों की बाँट करवाना, ई -ई.पी.आई.सी. (e-EPIC) डाउनलोड करवाने के लिए योग्य प्रयत्न करने के इलावा भारतीय चुनाव आयोग के वेब पोर्टल और गरुड़, पी.डब्लयू.डी. वोटर हेल्पलाइन एप की (GARUDA app, Pwd app, Voter Helpline app) का प्रयोग सम्बन्धित सभी बूथ स्तर अधिकारियों, सुपरवाईज़रों, ई.एल.सी. इंचार्ज और कैंपस एबंसडरों को अपेक्षित प्रशिक्षण देना शामिल है। उन्होनें आगे बताया कि इसके इलावा भारतीय चुनाव आयोग के आदेशों अनुसार आने वाले विधान सभा मतदान -2022 दौरान पोलिंग स्टाफ और वोटरों को कोरोना महामारी के प्रभाव से बचाने के उदेश्य से पोलिंग स्टेशन में वोटरों की संख्या को 1500 से कम कर 1000 करने की ज़रूरत के चलते ज़िला जालंधर के मौजूदा 1866 पोलिंग स्टेशनों में करीब 589 सहायक पोलिंग स्टेशन स्थापित किए जाएगे।उन्होनें ई.आर.ओज़ को कहा कि सहायक पोलिंग स्टेशन स्थापित करने से पहले पोलिंग स्टेशनों की रैशनेलाईज़ेशन की कार्यवाही करने के लिए कहा और पोलिंग स्टेशनों की रैशनेलाईज़ेशनज़ ज़िला चुनाव दफ़्तर को भेजने से पहले राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करके इस सम्बन्धित सुझाव /एतराज़ प्राप्त किये जाए, जिससे आने वाले मतदान दौरान राजनीतिक पार्टियों /वोटरों को पोलिंग प्रक्रिया में किसी प्रकार की परेशानी न आए। इसके इलावा सिंह ने कहा कि मौजूदा और संभावित पोलिंग स्टेशनों की सौ प्रतिशत फिजिकल वैरीफिकेशन करवाई जाए और सभी पोलिंग स्टेशन कमिश्नर के आदेशों के अनुकूल हो और इनमें ए.एम.एफ. (Assured Minimum Facilities) की उपलबद्धता को भी यकीनी बनाया जाए। अंत में अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (विकास) ने सभी मतदाता रजिस्ट्रेशन अधिकारियों को आने वाली विधान सभा मतदान -2022 की तैयारियों को मुख्य रखते हुए मतदान /वोटर सूची के साथ सम्बन्धित पैडिंग कामों को पूरा करने के लिए निजी तौर पर ध्यान देने के लिए कहा।इसके साथ उन्होनें मुख्य दफ़्तर के आदेशों अनुसार वोटर जागरूकता कैंपों में 18 -21 साल आयु वर्ग के युवाओं वोटरों को आनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के बारे में अधिक से अधिक जागरूक करने और कमिश्न के वैब -पोर्टल www.nvsp.in, www.voterportal.eci.gov.in और पी.डब्लयू.डी.एप, वोटर हैल्पलाइन का प्रयोग के लिए प्रेरित करने के लिए भी कहा।

LEAVE A REPLY