दैनिक हनेरा का अशीतल मन वाला गंजा बाबा कोहड बनाम ठग्ग नंबर 1

0
121

 *दैनिक हनेरा का अशीतल मन वाला गंजा बाबा कोहड बनाम ठग्ग नंबर 1*

*गंजे खिलाफ इकजुट होण लग्गे इसदी ठग्गी के शिकार लोग*

*शहर दे इक हारडवेयर वाले तों 5 लक्ख का समान लिया ते दित्ते 2 लक्ख , 3 लक्ख दे बदले हनेरा अखबार बुक करन दी दित्ती धमकी*

*जे इस हनेरा अखबार दे मालिक ने तुहानु वी किता है ब्लैकमेल जां परेशन तां सानू दस्सो असीं खोलांगे इस गंजे दी पोल*

*खुड्डे दे मोटे टल्ल ने किवें इसदी नजैज कंमा विच किती मदद पढो अगले भाग विच*

जालंधर( ब्यूरो  )- इक पंजाबी दी कहावत है कि गिद्दड लक्ख शेर दी खल्ल पा लवे पर आपणी औकात नहीं छड्ड सकता।

एही हाल जलंधर दे दैनिक हनेरा दे अशीतल मन वाले गंजे बाबा कौहड़ दा है।

इस गंजे ने शहर दे ही नहीं बल्कि देश भर दे अनेकां लोकां नूं ठग्गेया, लुटेया अते उनां नाल हेराफेरी करके उना दा नुकसान किता है।

पर मैं हैरान हां कि बहादर सूरवीरां दी धरती पंजाब के लोक किवें डरपोक होई जा रहे हन? कि इस बांदर बूथी वाले ठग्ग गंजे तो डरके व अते इसदे अत्याचार खिलाफ आवाज नहीं चुक रहे।

पर इस गल्ल दी सानुं खुशी है कि साढे वल्लों चुकी इस बाबा कोहड गंजे के खिलाफ आवाज ने आम लोकां नूं जागरुक कर दित्ता है।
इसदी ठग्गी दे शिकार लोक तां आवाज़ चुकण ही लग्ग पए हन सगों इसदे सताए इसदे आपणे मुलाजम वी सानू फोन करके धनवाद करन लग्गे हन कि इस गंजे ने अत्त चुकी सी, चंगा कित्ता तुसीं इसदी असलीयत दुनिया नुं दस्सी।

इस अशीतल मन वाले गंजे बाबा कोहड दी इक ऐसी करतूत पता लग्गी है कि सुन के तुसीं खुद ही दुखी हो जावोगे

कहानी शहर दे इक हारडवेयर कारोबारी ने सानूं सुनाई एक दुख भरी कहानी। उस तों साफ है कि इसने जदों आपणे सगे नहीं छड्डे लुट्टण विच तां आम शहरी नूं एह की समझेगा।

चलो खैर हुण तुहानूं दस्सदे हां कि उस गरीब कारोबारी ने सानूं की दस्सेया। उस हारडवेयर कारोबारी ने दस्सेया कि इस अशीतल मन दैनिक हनेरा दे फर्जी संपादक अते काले कंबलां दे काले कारोबारी ने आपणी फैक्टरी दी मुरमत लई मेरे तों होली- होली करके हारडवेयर का सामान मंगवाया । जिसकी कीमत 5 लक्ख रुप्ए तक पहुंच गई। इस कारोबारी ने दस्सेया कि मैं जदों वी इस गंजे अशीतल मन वाले तों आपणे पैसे मंगे तां इसने केहा कि मैं कित्थे दौड चलेयां, दे देयांगे पैसे। पर इक दो नहीं सौ चक्कर इसदी फैकटरी दे मारन दे बाद वी इसने मेरे पैसे नहीं दित्ते ।
अखीर जदों मैं शहर दे दो तिन सियासी बंदे विच पाए जो इस गंजे बाबा कोहड दे वी करीबी सन तां उनां दे विच पैण नाल आखिर इक साल लगातार चक्कर लगा के इस गरीब दुकानदार नूं इस गंजे ने सिर्फ दो लक्ख रुप्ए ही दित्ते।

जदों इस गरीब कारोबारी ने आपणे बाकी दे 3 लक्ख रुप्ए मंगे तां गंजे ने इस कारोबारी नूं आपणे दफतर बुला के धमकी दित्ती कि हुण जे तूं पैसे मंगे तां वेख लईं। मजबूर ते गरीब कारोबारी ने अखां भर के सानुं दस्सया कि इस गंजे ने मैनूं साफ किया कि हुण तैनुं कोई पैसा नहीं मिलना , ते तेरे बाकी दे 3 लक्ख रुप्ए मैं आपणी हनेरा अखबार लई परची कट्ट दित्ती है । तुं उनां 3 लक्ख बदले कोई छोटी मोटी एड लगवा लईं ते तैनूं अगले 3 साल आपणी अखबार फरी भेजांगे।

दोस्तो हुण तुसीं दस्सो इस गंजे लुटेरे बाबा कोहड दी हनेरा अखबार कोई सोने दी है? जो 3 साल लई 3 लक्ख रुप्ए ओस इंसान कोलो लै लए।

पर लोकां नूं डराना, उनां दा सोशन करना, उनां नूं एह दस्सना कि मैं किड्डी तोप हां। एह कम्म उही करता है जिसदे पल्ले सिवाए फूकरापंथी तों होर कुज ना होवे।

कियों कि गरीब आदमी नूं डरानां , धमकाना, ब्लैकमेल करना एह कम्म सिर्फ आपणी कमजोरी नुं छिपाण लई ही किता जांदा है। पर जदों सामणे साढे वरगे सच्चे, इमानदार पत्तरकार आ के खड जांदे हन तां एदे वरगे दी औकात सामने आ ही जांदी है।

साढीयां खबरां ने सारे पंजाब, हरियाणा, हिमाचल वालेयां नूं इसदी असलीयत दस्स दित्ती है। साढीयां सच्चीयां खबरां दियां मिरचां इस गंजे नूं इस बुरी तरां लग्गीयां हन कि एह ते इस दे झोली चुक हुण भज्जे फिरदे हन कि डिजीटल मीडीया वालेयां खिलाफ कोई सबूत तां लब्बीए तां कि एना खिलाफ कुज छाप सकीए पर हैरानी दी गल्ल है कि इना बलैकमेलरां नूं सिवाए डिजीटल मीडीया दीयां तरीफां दे कुछ सुनन नूं नहीं मिल रेहा।

जिस करके एह सिर्फ बोगस दे अर्थहीन गल्लां लिख के आपणा रांजा राजी कर रिहा ए। पर जो असीं लिखांगे इसदी असलीयत दस्सण लई ही लिखांगे।

दोस्तो साढी सारे पंजाब दे लोकां नूं अपील है कि जो कोई वी इस दैनिक हनेरा दे गंजे बाबा कोहड दा सताएया है, जिसदे इस गंजे ने पैसे मारे ने, जिस नाल धोखा किता है, जिस नाल बदमाशी ते गुंडागरदी करके डराया है, उह सानुं आके आपणी कहानी दस्से ,असीं ओह छापांगे| असीं ओह डिजीटल पत्तरकार हां जो सच् दे लई जान देण तों वी नहीं डरदे।

असीं उनां मजलूमां, गरीबां दी आवाज बनांगे ते इस गंजे बाबा कोहड दा असली कोहड दुनिया दे सामणे रखांगे ताकि एह जो धर्म ते समाज सेवा दा मुखोटा पा के सारे शहर विच आपणी झूठी हनेरा अखबार राहीं गंद मचा रेहा है, उसदा असल दुनीयां नुं दस सकिए।

बाबा कोहड वल्लों जो डिजीटल मीडीया खिलाफ झूठा प्रचार करके एह कोशिश कीती जा रही है कि आ रहीयां चोणां विच्च सिरफ मैं ही सियासी बंदेयां तों मोटे पैकेज चुकां ते डिजीटल मीडीया नुं कमजोर साबित करके आपनीयां जेबां भरां उसदा एह वहम खत्म कर सकीए।

ते दस्स सकीए कि हुण युग डिजीटल मीडीया दा है । तूं वी तां बिना इजाजत आपणा पोर्टल चला ही रिहा हैं, तैनु किसने सर्टिफिकेट दित्ता?

हां सच्च जांदे जांदे दस्स देयां कि असी अगले अंक विच तुहानु दस्सांगे कि खुड्डा दे मोटे टल्ल ने किवें इस गंजे दी नजैज कालोनियां राहीं सरकार नूं करोडां रुप्ए दा चूना लगाया है? ते हुण किवें मोटे टल्ल दा ही इस गंजे ने इस्तेमाल करके उसनुं मुसीबत विच पा दिता है। मिलदे हां अगले अंक विच , उदों तक रब्ब राखा।

LEAVE A REPLY