तू शीतल नहीं अशीतल है| तू सोना नहीं पीतल है।* *अबे तूं क्या बदनाम करेगा डिजीटल पत्रकारों को,* *तूं हिंदी में कीड़ा,अंग्रेजी में बीटल है|*

0
32

 

*तू शीतल नहीं अशीतल है| तू सोना नहीं पीतल है।* *अबे तूं क्या बदनाम करेगा डिजीटल पत्रकारों को,*
*तूं हिंदी में कीड़ा,अंग्रेजी में बीटल है|*

🔴 *ओए गंजे शर्म कर ,जो गंदे कम्म तूं सारी उमर करदा रेहां एं ओह सब डिजीटिल मीडीया दे पत्रकारां दे सिर पाई जानैं?*

⚫ *तैनूं साड्डी दरियादिली हजम नहीं होई, चल हुण भज्ज गंजे अग्गे अग्गे असीं तेरे ही पिछे आं*

*दैनिक हनेरा दियां कालीयां करतूतां पढ रहे सारे पाठकां नूं बेनती है कि साड्डा इस इक लफज सच्चा है , सो इस ठरकी गंजे तों आपणे घर ते कारोबार नूं बचावो, अते इसनूं आपणे तों दूर ही रक्खो*

*डिजीटल मीडीया इक आधुनिक प्लेटफार्म है पत्रकारी दा, पर दैनिक हनेरा दी ठग मंडली नूं एह हजम नहीं, क्यों कि एहनां दी ब्लैकमेलिंग बंद होजू*

ब्यूरो (जालंधर) :लो जी मित्रो बहुत हो गई अन्याय सहन दी हद, बहुत विखा लई सहनशक्ति, ते बहुत रख लेया होंसला , शांति वी रख के वेख लई पर गंजा बाबा कौहड़ ने साड्डी सहनशक्ति नु साड्डी कमजोरी समझ लेया लगदा, उस नुं शायद लगया होऊ कि एह डर गए ते हुण एहना नाल जिन्नी मर्जी धक्केशाही कर लो, पर असीं पहले वी केहा सी कि असीं बस इक रब कोलों डरदे आं , अते दूजा बुरे कर्मा तों ।

बाकी जो बाबा कौहड़ कर रिहा ओह उस दा अहंकार है बस ते जो असीं कर रहे हां, ओ है आत्म सम्मान दी रक्षा दी लडाई, जो कि साड्डा सवैंधानिक अधिकार है ।

“जो तुमको कांटा बोवे,
उस को बो तू भाला,
वो भी क्या याद करेगा
पड़ा था किस से पाला”

दोस्तों ऐसी तुहानु दस्स देइए कि दैनिक हनेरा दे अशीतल मन वाले गंजे बाबा कोहड, जिस नु लोकीं बत्तऊं जी , बत्तऊं जी कह के बुलांदे ने, अते जिसने अपनी दैनिक हनेरा विच डिजिटल मीडिया नूं बदनाम करन दी साजिश रची है| पर सच कदे वी कमजोर नहीं हुंदा, हां मूर्खां नाल बहस करन नालों, सच्चा बंदा चुप करना बेहतर समझदा है| पर कई वारी गंजे कोहड वरगे नासमझ बंदे सच्चे बंदे दी चुप्पी नूं उसदी कमजोरी समझ बैठते हन| तां फेर उसदॎ जवाब देना जरूरी हो जांदा है|

डिजिटल मीडिया वालेयां वल्लों दैनिक हनेरा च डिजिटल मीडिया के पत्रकारों ते हो रहे हमलेयां दे जवाब विच गंजे बाबा कोहड़ दी 2-3 वारी ठुकाई होई तां बाबा कोहड़ दी अक्ल टिकाने लगन लग गई सी। बाबा कोहड़ दी हवा निकल गई ते उस नुं अपनी गलती दा एहसास हो गया।

पहले दिन ते बाबा कोहड़ ने अपनी फ्लॉप हो चुकी दैनिक हनेरा दे जरिये सारे न्यूज़ पोर्टल्स दे पत्रकारां नुं जाली, ठग, ब्लैकमेलर आदि कहके बदनाम करन दी कोशिश किती, ते फेर जदों डिजिटल मीडिया दे पत्रकारां ने इस गंजे नुं भर के 2-3 टीके ठोके ते एस नु कुछ पोर्टल्स वाले पत्रकार वीर चंगे वी लगन लग पए । सानुं ते खुशी चढ़ गई, सच्ची स्वाद आ गया, साढे़ टीकेयां तों बाद एस गंजे कोहड नुं सुरत आई अते गंजे कोहड़ नुं कुज डिजिटल मीडिया नाल जुड़े साढ़े ही पत्रकार वीर चंगे लगन लग गए| एस दे नाल नाल बाबा कोहड़ साडी एसोसिएशन दे वी कुज पत्रकारां नु चंगा कहन लग पेया। एस नुं कहन्दे हन डिजिटल मीडिया दी ठुकाई दी ताक़त। असीं एही तां चाहुंदे सी । एह वी ते साढ़ी जित ही है ।

हालांकि शहर भर दे लोग कह रहे ने कि गंजा बाबा कोहड़ तों वड्डा ठग, बईमान अते ब्लैकमेलर कोई है ही नही, पहलां ए खुद आपणे मंजे थल्ले सोटा ता मार लवे, अपने गिरेबां विच झाती मार लवे ।

मित्रों हुन तुसीं वेखेयो डिजिटल मीडिया दे टीकेयां दा असर एना ज्यादा होवेगा कि, जो इस गंजे कोहड दे दिमाग विच द्वेष, इर्खा, निंदया ते अहंकार रूपी कोरोना दी इंफेक्शन है उस दा सफाया ही हो जावेगा| ते हो सकदा ए कि थोड़े होर टीकेयां तो बाद एह साड्डी एसोसिएशन दी मेम्बरशिप ही ले लवे।😃

बाकी साड्डे कुज जाबांज पत्रकार ते एस नुं मरदे दम तक चंगे नही लगनें, क्यों कि एह पत्रकार अज डिजिटल एसोसिएशन नुं लीड कर रहे हन| साड्डी संस्था कोल इक तों इक निडर ते ईमानदार पत्रकार हन, जो बाबा कोहड़ दे खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे ने, अते एसोसिएशन दी रीढ़ दी हड्डी बनके कम्म कर रहे हन।

एहनां निडर पत्रकारां ने इतिहास रचदे होए ओ करके विखा दिता जो एहना तों पहला सिर्फ देश दी इक वड्डी अखबार ही करदी सी ।
होर किसे दी हिम्मत ही नहीं सी जो इस महापापी ठग नम्बर 1 दे खिलाफ इक शब्द वी लिख सके। बाबा कोहड़ दा लेवल ते वेखो, असीं इक शार्ट मारी ते एह टुच्चा इक दम असमान तो थल्ले आ डिग्गया| बाबा कौहड़ दी औकात, हुन एस नुं सिर्फ वड्डी अखबार ही नहीं सगों आम घर विच जन्मे डिजिटल मीडिया दे पत्रकार वी ठोकवां जवाब दे के दिखा रहे ने! ते हुन ए साड्डे खिलाफ जो मर्जी कां वांगुं कैं कैं करी जावे, साड्डा कुज नीं जाना|

असीं तां पहलां ही फकीर बंदे आं| ना असीं दारू पीनी, ना असीं मुर्गे खानें | 2 टैम दी रोटी पहलां वी खा रहे सी ते हुन वी खा रहे आं, आत्मसम्मान नाल पहलां वी जी रहे सी, ते हुन पहलां नालों वी ज्यादा आत्मसम्मान नाल जी रहे हां।

क्यों कि असी शहर दे टुच्चे डॉन, बदमाश, अहंकारी, ठग, ब्लैकमेलर, द्वेषी, ईर्ष्यालु अते हनेरा फैलान वाले गंजे बाबा कौहड़ दे तलवे नही चट्टे| ना ही ओस दी धक्केशाही तो डरे, ना ही ओस दे झूठे बेबुनियाद लगाए गए इल्जामां ते निंदा तो घबराए।

बाबा कौहड़ पहलां नालों 100 गुणा वद साड्डी निंदा करे, असी फेर वी चैन दी नींद सौवांगे | ए हुंदी ऐ ईमानदार इंसान दी ताकत। जिनी मर्जी रज रज के निंदा कर लवे कोई, 1000 वार निंदा करन तो बाद वी बाबा कोहड़ दा लैवल थल्ले ही रहना ए । जे ए सोचदा है कि डिजिटल मीडिया दी निंदा ते बदनामी करके एस दा लेवल उप्पर हो जावेगा, ते फेर एस तो वड्डा मूर्ख कोई नही।

लोकीं ते हुन ए कह रहे ने कि वड्डी अखबार विच अपनी रज के थू थू करवान तो बाद हुन गंजा कोहड डिजीटल पोर्टल्स दे पत्रकारां नु दबान लई पसीनों-पसीन होएया फिरदा ऐ। लैवल वेखो दैनिक हनेरा दे बाबा कौहड़ दा सच्ची लख लाहन्त है एस दे ।
रज के बेसती करवा लई पोर्टल्स वालेया कोलों । शर्म फेर वी नही आई एस गंजे बाबा कौहड़ नु।

हुन ते शहर दे लोकीं अते कई सीनियर पत्रकार डिजिटल मीडिया दे पत्रकारां नु फ़ोन करके रज के शाबाश दे के कह रहे ने कि तुहाडी हिम्मत दी दात देनी पवेगी,जिहना नें इहनी वड्डी हिम्मत विखाई ते बाबा कोहड़ दियां करतूतां नुं उजागर करन दा बीड़ा चुकेया ।

बाकी रही न्यूज़ पोर्टलां अते एसोसिएशन उते दैनिक हनेरा वल्लों लगाए जा रहे इलजामां दी गल्ल। तां लोकां नु दस दईये कि हर फील्ड विच गलत लोग वी हुंदे ने| अख़बारा अते इलेक्ट्रोनिक मीडिया नाल जुड़े कई पत्रकारां दे ब्लैकमेलिंगा अते ठगियां दे कई मामले सामने आ चुके ने, कईयां ते पर्चे वी हो चुके हन अते कई जेल वी जा चुके हन| पर एस दा मतलब एह नहीं कि अख़बारा अते इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नाल जुड़े सारे पत्रकार वी ब्लैकमेलर हन ! समाज विच हज़ारां पत्रकार चंगे अते ईमानदार वी ने ।
अख़बारा अते इलेक्ट्रॉनिक मीडिया दे जो ब्लैकमेलर पत्रकार हन, ओहना दे नक्शे कदम ते चल के जेकर कोई पोर्टल वाला पत्रकार किसी दुकान, मकान, मसाज पार्लर ते शराब हुक्का बार वगैरह कोलों पैसे वसुलदा है, तां एस दा मतलब एह नहीं कि ओहनां ब्लैकमेलर पत्रकारां दा पाप डिजिटल मीडिया दे सच्चे अते ईमानदार पत्रकारां या ओहना दी एसोसिएशन दे सिर पा के बदनाम करन लग जावो।
ओए बाबा कोहड़ मूर्खा! थोड़ा ते अक्ल तों कम्म लै ला| तेरे खिलाफ ओ ही आवाज चुक सकदा है, जो खुद हर पासों ठीक होवे ।

जे एह बहादुर पत्रकार किसे नजैज कम विच शामिल हुंदे, ब्लैकमेलर हुंदे, ठग हुंदे , दुकानां- बिल्डिंगां, मसाज पार्लर, हुक्का बार जां शराब कारोबारियां आदि कोलों पैसे दी वसूली करदे हुंदे तां एहना दी तेरे खिलाफ इक वी शब्द लिखन दी हिम्मत नहीं होनी सी । एही वजह है जो तेरे वरगे बंदे नु बिना किसे डर दे, मुँह तोड़ जवाब दे रहे हन, नहीं ते अज तक तेरे खिलाफ बोलन दी हिम्मत किसे कोल नहीं सी ।

कदी ए सोच के वेखिया तूं कि बाबा कौहड़ नुं ते सिर्फ देश दी एक बहुत वड्डी अखबार ही ठोकदी सी, ओस तो इलावा एस अग्गे न ते कोई एसोसिएशन कुसकी , न ही कदी किसी पत्रकार दी हिम्मत होई । ते न ही किसी पत्रकार दी हिम्मत होई एस दे काले कारनामें उजागर करन दी, एस दा इहना ज्यादा ख़ौफ़ सी। तां साड्डी एसोसिएशन ने एस दे ख़ौफ़ दी कर दी दिति ऐसी दी तैसी। बाबा गंजा कोहड़ हो गया ठुस साबित , ईमानदारी नाल पोर्टल चलान वालेया ने निकाल के रख दिति इस दी हवा| ए हुंदी ए ईमानदार पत्रकारिता दी ताकत! जो बाबा कोहड़ वरगे ब्लैकमेलर कदी नहीं समझ सकदे।

मित्रो! ए पोर्टल्स वालेयां च इहनी हिम्मत किथों आई? साढ़े विच एह हिम्मत एस लई आई कि असीं ना ते बाबा कोहड़ वांग कदी शराब माफिया कोलों पैसे लऐ, न लॉटरी माफिया कोलों , न किसे दी दुकान-मकान ते कदी वी गए , ना ही किसे बनदी बिल्डिंग ते गए, ना ही असीं दैनिक हनेरा दे पत्रकारां दी तरां हुक्का बार तो पैसे लैंदे हां , ते न ही देह व्यापार दा धंधा करन वाले मसाज सेंटरां जां अड्डेयां ते जाके ठरकी गंजे वांग अय्याशीयां करदे हां, न असी बाबा कौहड़ वांग नजैज कॉलोनियां कटदे हां, ते न ही तांत्रिका अते ट्रांसपोर्ट माफियाओं कोलों हफ्ता वसूली करदे हां।

सो दोस्तों सच लई लड़ना कोई आसान काम नहीं है| बदनामीं तां झलनी ही पैंदी है सगों ठग मंडली नाल पंगा वी पैंदा है| पर जेहड़ा डर गया ओह पत्रकार काहदा|

सो गंजे बाबा कोहड तूं तैयार हो जा| हुण लगातार रोजाना तेरा जुलूस कड्डेया करांगे,
तेरी असल औकात दुनिया नूं दस्सांगे| डिजिटल मीडिया तेरे वांगू ठग मंडली नहीं है| सब हक ते मेहनत की कमाई करन वाले पत्रकार हन|
बाकी गंजे कोहड़ दी पोल कल खोलांगे ते इसदी नजैज कालोनी ते इसदे टल्ल दी पोल खोलांगे|

LEAVE A REPLY