पंजाब में महिला से पुरुष बनी कांस्टेबल, अब किया लिंग व नाम बदलने का आवेदन

0
7

  • Google+

बठिंडा ( हर्ष )

पुलिस की एक महिला कांस्टेबल लिंग परिवर्तन करवाकर पुरुष बन गई है। पंजाब में यह ऐसा पहला मामला है। डिप्टी कमिश्नर दफ्तर ने लिंग परिवर्तन (जेंडर रीअसाइनमेंट) आपरेशन करने वाले अस्पताल की रिपोर्ट के आधार पर उक्त कांस्टेबल के नाम से लिंग परिवर्तन प्रमाण पत्र जारी किया है। कांस्टेबल ने अब डीसी कार्यालय के प्रमाण पत्र के आधार पर नाम और लिंग परिवर्तन की मंजूरी के लिए पंजाब पुलिस के उच्चाधिकारियों के पास आवेदन दिया है। यह आवेदन उसने ट्रांसजेंडर व्यक्ति (अधिकारों का संरक्षण) नियम, 2020 के नियम 6 और ट्रांसजेंडर व्यक्ति (अधिकारों का संरक्षण), अधिनियम 2019 की धारा 7 के तहत दिया है। इस तरह के पहले आवेदन को लेकर बठिंडा के पुलिस अधिकारी अब संशय में हैं।

दिसंबर, 2020 में नई दिल्ली के एक अस्पताल से महिला कांस्टेबल ने लिंग परिवर्तन कराने के लिए आपरेशन करवाया था। पता चला है कि कांस्टेबल ने लिंग परिवर्तन कराने से पहले पुलिस विभाग से अनुमति नहीं ली थी। उक्त महिला बठिंडा पुलिस में 2011 से तैनात है। आपरेशन के बाद वह पूरी तरह ठीक है। यह कांस्टेबल पहली बार 2012 में तब सुर्खियों में आई, जब उसने अपने परिवार के कड़े विरोध के बावजूद बठिंडा जिले के अपने गांव के बचपन की सहेली के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में रहना शुरू कर दिया। उसने अपनी सहेली के साथ रहने के लिए सुरक्षा की मांग करते हुए पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में अपील भी दायर की थी। उन्होंने उस समय कहा था कि दोनों को उनके परिवारों से खतरा है। हालांकि, दोनों के रिश्ते में 2019 में खटास आ गई, जब उन्होंने पुलिस में एक-दूसरे के खिलाफ प्रताड़ना की शिकायत की। इसके बाद उक्त कांस्टेबल अपनी सहेली से अलग हो गई थी।

उधर, इस मामले पर आइजी बठिंडा रेंज एमएस छीना ने कहा कि यह पहली बार है कि जब किसी महिला कांस्टेबल ने लिंग परिवर्तन के लिए पुलिस में आवेदन किया है। हम इस मामले में कानूनी राय लेकर मामले को मुख्यालय भेजेंगे और फिर आगे की कार्रवाई की जाएगी। जब उक्त महिला कांस्टेबल से फोन पर संपर्क किया गया तो उसने इसे अपना निजी मामला बताते हुए कोई भी टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया।

LEAVE A REPLY